केंद्र सरकार से 200 करोड़ रुपये मदद की गुहार

सुशील मिश्र | मुंबई Feb 14, 2018 10:05 PM IST

बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से हुए नुकसान की भरपाई के लिए महाराष्ट्र सरकार ने केंद्र से 200 करोड़ रुपये मदद की मांग की है। पिछले सप्ताहांत में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से राज्य में 1,90,000 हेक्टेयर क्षेत्र में लगी फसलों पर कहर टूट पड़ा। मौसम की मार से राज्य के 1,800 गांवों के किसानों पर भी पड़ी है। कृषि विभाग बर्बाद हुई फसल का पंचनामा करने में लगा है ताकि किसानों को नुकसान की भरपाई की जा सके। बारिश और ओलावृष्टिï की सबसे अधिक मार मराठवाड़ा और विदर्भ के किसानों पर पड़ी है, हालांकि राज्य के सभी हिस्से इससे प्रभावित हुए हैं। 
 
महाराष्ट्र के कृषि मंत्री पांडुरंग फुंडकर ने कहा कि नुकसान अनुमान से कहीं अधिक हो सकता है। फुंडकर ने कहा, 'किसानों की मदद के लिए हमने केंद्र से भी मदद का निवेदन किया है। इस संकट से निपटने के लिए राज्य सरकार ने 200 करोड़ रुपये की मदद की गुहार लगाई है।  महाराष्ट्र मंत्रिमंडल की हुई बैठक में किसानों को उनके नुकसान की भरपाई करने का निर्णय लिया गया। जिन किसानों ने फसलों का बीमा करा रखा था, उन्हें किसान बीमा योजना के अनुसार फसल रकम दी जाएगी। मौसमी और संतरे की उपज के लिए 23,300 रुपये प्रति हेक्टेयर, केले के लिए 40 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर, आम के किसानों को 36,700 रुपये और नींबू के लिए 20 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर के हिसाब से मदद राशि दी जाएगी। जिन किसानों ने बीमा नहीं कराया था, उन्हें प्रति हेक्टेयर 18 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाएगा।  मराठवाड़ा और विदर्भ व उत्तर महाराष्ट्र में ज्वार, मक्का, गेहंू, चना और सूरजमुखी की फसलों को भी भारी नुकसान हुआ है।
कीवर्ड mumbai, farmer, rain,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक