गोरखपुर और फूलपुर सीटों के लिए मचा घमासान

बीएस संवाददाता | लखनऊ Feb 18, 2018 09:37 PM IST

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनकी सरकार के लिए प्रतिष्ठा का सबब बन चुके गोरखपुर व फूलपुर संसदीय सीटों के उप चुनाव के लिए विपक्ष ने घेराबंदी शुरू कर दी है। आदित्यनाथ और उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के इस्तीफा देने के बाद क्रमश: गोरखपुर और फूलपुर सीटें खाली हुई थीं। कांग्रेस ने इन सीटों के लिए अपने प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया है, जबकि सपा ने छोटे दलों के साथ गठबंधन कर बिसात बिछानी शुरु कर दी है। 
वैसे गोरखपुर और फूलपुर में लोकसभा उप-चुनाव को लेकर विपक्ष एकजुट नहीं हो पाया है, लेकिन अखिलेश यादव ने सपा को मजबूत करने की दिशा में प्रयास जरूर तेज कर दिए हैं। उन्होंने पीस पार्टी और निषाद पार्टी से गठजोड़ करने का ऐलान किया है।
पूर्वी उत्तर प्रदेश में दखल रखने वाली डॉ. अय्यूब की पीस पार्टी और संजय निषाद की निषाद पार्टी से हाथ मिलाकर अखिलेश आदित्यनाथ को उनके ही गढ़ में मात देने की कोशिश कर रहे हैं। अखिलेश यादव ने दोनों पार्टी से हाथ मिलाने के बाद गोरखपुर लोकसभा चुनाव में पार्टी के उम्मीदवार के नाम का ऐलान भी कर दिया है। उन्होंने निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद के बेटे प्रवीण कुमार को सपा का उम्मीदवार घोषित किया। गोरखपुर लोकसभा सीट के तहत निषाद बिरादरी के करीब साढ़े सात लाख मतदाता हैं। कांग्रेस ने गोरखपुर से डॉ. सुरहिता करीम को और फूलपुर से मनीष मिश्रा को प्रत्याशी घोषित किया है।
पीस पार्टी और निषाद पार्टी से हाथ मिलाने के ऐलान के बाद अखिलेश यादव ने मीडिया से बातचीत में कहा कि वे इस चुनाव में भी विधानसभा चुनाव के घोषणा पत्र के साथ उतरेंगे। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पीएनबी में हुए फ र्जीवाड़े के लिए भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि किसान कर्ज की वजह से मर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ  लोग अरबों रुपये लेकर फरार हो रहे हैं।  
कीवर्ड UP, by-election, BJP,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक