बस्तर में मुद्रा बदलने के लिए विदेशी पर्यटक को भटकना पड़ा

बीएस संवाददाता | जगदलपुर Feb 19, 2018 10:00 PM IST

फ्रांस से भारत आए रिचर्ड और उनकी पत्नी मावी ओडिल को भारत बहुत पसंद आया। पिछले काफी समय से वे यहां घूम रहे हैं और कई प्रांतों तक जाकर उन्होंने देश में बिखरी खूबसूरती का आनंद लिया। मध्य भारत पहुंचे तो इन्हें किसी ने बताया कि बस्तर बेहद सुंदर है और यहां की प्राकृतिक खूबसूरती का आनंद लेने दोनों चले आए। पूरे देश में उन्हें कहीं कोई परेशानी नहीं हुई, लेकिन बस्तर पहुंचकर दोनों पाई-पाई के लिए मोहताज हो गए। पर्याप्त पैसे होने के बावजूद मुद्रा बदलने के इन्हें पूरा दिन इधर-उधर भटकना पड़ा। इनका मानना है कि बस्तर का प्राकृतिक सौंदर्य अप्रतिम है पर इसके विकास को लेकर लापरवाही बरती गई है। 
 
फ्रांसिसी पर्यटक रिचर्ड ने बताया कि सबसे पहले वे अपनी समस्या लेकर स्टेट बैंक की मुख्य शाखा पहुंचे। जहां उन्हें यह बताया गया कि करेंसी एक्सचेंज के लिए उन्हें पोस्ट ऑफिस जाना होगा। पोस्ट ऑफिस पहुंचने पर भी उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ। स्थानीय कुछ लोगों ने इनकी मदद की, जिसके बाद एचडीएफसी बैंक प्रबंधन ने वीजा कार्ड से इन्हें 10 हजार रुपये नकद उपलब्ध करवाए। रिचर्ड और मावी ने बताया कि स्टेट बैंक की कई शाखाओं में उन्होंने करेंसी एक्सचेंज करवाई है। बस्तर में ही उन्हें बैरंग लौटा दिया गया।  करेंसी एक्सचेंज को लेकर आ रही परेशानी के संबंध में स्टेट बैंक के मुख्य प्रबंधक आलोक जैन और डाक अधीक्षक यूएस सिंह से संपर्क करने का प्रयास किया गया, लेकिन वे उपलब्ध नहीं हो सके।
 
अवैध गिट्टी लेकर जा रहे 2 टिपर जब्त
 
लोक सुराज के आवेदनों का निराकरण करने निकले राजस्व दल ने टाहकापाल के पास जांच के दौरान 2 अवैध टिपर और उसमें लदी गिट्टी जब्त किया। तोकापाल तहसीलदार नेहा ने बताया कि वे हलका पटवारी राजेश तिवारी, दिनेश सिंह और भोलानाथ साहा के साथ लोक सुराज के अवेदनों के निराकरण के सिलसिले में दरभा की ओर निकली थीं। इसी बीच रास्ते में टाहकापाल के नजदीक 2 टिपर मिले, जिन्हें शंका के आधार पर रोककर जब दस्तावेज मांगे गए तो ड्राइवरों के पास कोई कागज नहीं मिला। दस्तावेज न होने पर दोनों टिपरों को पकड़ कर बड़ांजी पुलिस के हवाले कर दिया गया।
कीवर्ड bastar, tourist,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक