उप्र में निवेश प्रस्तावों को जमीन पर उतारने की तैयारी

बीएस संवाददाता | लखनऊ Feb 26, 2018 10:17 PM IST

निवेशक सम्मेलन की सफलता से उत्साहित उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने इस दौरान आए निवेश प्रस्तावों को धरातल पर उतारने की कवायद शुरू कर दी है। सम्मेलन में आए 10 हजार करोड़ रुपये से ऊपर के निवेश 
प्रस्तावों के क्रियान्वयन के लिए एक उच्च अधिकारी को नोडल अधिकारी बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद ऐसे प्रस्तावों की निगरानी करेंगे। योगी इस सप्ताह निवेश प्रस्तावों से जुड़े विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।
निवेश प्रस्तावों की प्रगति की ऑनलाइन निगरानी की व्यवस्था तैयार की जा रही है। इससे मुख्यमंत्री जब चाहेंगे निवेश प्रस्तावों की प्रगति की ताजा स्थिति की जानकारी ले सकेंगे। हर काम की समय सीमा तय की जाएगी। सभी औद्योगिक परियोजनाओं की प्रगति नियमित रूप से अद्यतन की जाएगी।
निवेशक सम्मेलन के तुरंत बाद मुख्यमंत्री ने औद्योगिक विकास विभाग को सभी प्रस्तावों की गहन छानबीन कर उनको धरातल पर उतारने के लिए प्रयास शुरू करने को कहा। इसके बाद औद्योगिक विकास आयुक्त अनूप चंद्र पांडेय ने उद्योग बंधु के साथ बैठक कर हरेक प्रस्ताव की निगरानी करने को कहा। उन्होंने कहा कि औद्योगिक विकास विभाग को बाकी विभागों के साथ समन्वय करना चाहिए। साथ ही निवेशकों से काम शुरू करने के बारे में बात की जा रही है। निजी सार्वजनिक भागीदारी (पीपीपी) के आधार पर लगने वाले उद्योगों के लिए सरकार को जमीन और प्रशासनिक मदद उपलब्ध करानी है। पीपीपी मोड में शुरू होने वाली परियोजनाओं पर सबसे पहले काम शुरू किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने विभिन्न विभागों के प्रमुख सचिवों से कहा है कि निवेश प्रस्ताव लाने वाले उद्यमियों से सीधा संपर्क साधते हुए निवेश में उनकी मदद करें और किसी भी तरह की रुकावट दूर करें। 
कीवर्ड UP, Investment, Summit,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक