बजट से कहीं खुशी, कहीं गम!

बीएस संवाददाता | पटना Feb 28, 2018 09:55 PM IST

बिहार के कारोबारियों और उद्यमियों ने मोटे तौर पर राज्य सरकार के बजट पर मिली-जुली प्रतिक्रिया दी है। राज्य के उद्योग संघों के मुताबिक इस बजट से राज्य की तरक्की की रफ्तार बढ़ेगी। हालांकि, कई उद्यमियों ने छोटे उद्योगों की बेरुखी पर नाराजगी जताई है। राज्य के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को 1.76 लाख करोड़ रुपये का राजस्व अधिशेष वाला बजट पेश किया था। इसमें राज्य सरकार ने सबसे ज्यादा जोर शिक्षा और सड़कों के विकास पर दिया है। बिहार चैंबर ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष पी के अग्रवाल के मुताबिक इस कदम से बिहार में विकास की रफ्तार तेज होगी। अग्रवाल ने कहा, 'नए वित्त वर्ष में राज्य सरकार के बजट में करीब 10 फीसदी का इजाफा किया गया है। राज्य सरकार ने बजट में 1 अप्रैल से बिहार में दाखिल-खारिज को ऑनलाइन करने का ऐलान किया है, जिससे राज्य की जनता को बड़ी सहूलियत होगी। हालांकि उद्योग विभाग को भी आशा के अनुरूप पैसे आवंटित नहीं किए गए, जिससे औद्योगिकीकरण की रफ्तार पर असर हो सकता है।' दूसरी तरफ, बिहार इंडस्ट्रीज एसोसिएशन केअध्यक्ष के पी एस केसरी के मुताबिक सड़कों के तेज निर्माण से राज्य के विकास को गति मिलेगी। हालांकि, उन्होंने भी उद्योग विभाग के बजट में कटौती पर निराशा जताई है। 
 
मांझी ने छोड़ा राजग का साथ
 
पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से नाता तोड़ लिया है। मांझी ने बुधवार सुबह राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव से मुलाकात की। इसके बाद पार्टी के नेताओं ने राजग से संबंध विच्छेद का ऐलान किया। 
कीवर्ड bihar, budget,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक