पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के लिए 12 बड़ी कंपनियां होड़ में

वीरेंद्र सिंह रावत | लखनऊ Mar 20, 2018 09:56 PM IST

बुनियादी ढांचा क्षेत्र की शीर्ष कंपनियां दौड़ में शामिल

उत्तर प्रदेश सरकार की महत्त्वाकांक्षी पूर्वांचल एक्सप्रेसवे परियोजना की दौड़ में बुनियादी ढांचा क्षेत्र की शीर्ष कंपनियां शामिल हैं। इस फेहरिस्त में एलऐंडटी, रिलायंस इन्फ्रास्ट्रक्चर और एफकॉन्स जैसी कंपनियों के नाम सामने आए हैं। इस परियोजना पर करीब 190 अरब रुपये लागत आने का अनुमान है। तकनीकी बोली के चरण में 12 कंपनियां वित्तीय बोली के लिए योग्य पाई गई हैं।

सूत्रों के अनुसार इन कंपनियों की वित्तीय बोलियां अगले सप्ताह संभवत: 28 मार्च को खुलेंगी। इसके बाद मूल्यांकन समिति इन बोलियों में न्यूनतम मूल्य देने वाली कंपनी का चयन करेगी। अगर सभी चीजें योजना अनुसार रहीं तो अगले 4 से 6 हफ्तों में चयनित कंपनियों को ठेके आवंटित हो जाएंगे। इस परियोजना के लिए करीब 4,332 हेक्टेयर जमीन की जरूरत होगी, जिनमें निजी और सरकारी भूमि दोनों शामिल होगी।

नियमों के अनुसार आवश्यक जमीन में 90 प्रतिशत हिस्से का अधिग्रहण होने के बाद ही एक्सप्रेसवे परियोजना की  शुरुआत हो सकती है। केवल जमीन पर ही 65 अरब रुपये लागत आने का अनुमान है। उत्तर प्रदेश के  औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने भूमि अधिग्रहण की धीमी रफ्तार पर नाखुशी जाहिर की थी। एसबीआई के नेतृत्व में एक समूह परियोजना के लिए 150 अरब रुपये की रकम का बंदोबस्त करेगा।

माना जा रहा है कि इस परियोजना से अपेक्षाकृत राज्य के पिछड़े पूर्वी इलाके की सामाजिक-आर्थिक तस्वीर बदल सकती है। करीब 340 किलोमीटर लंबा यह एक्सप्रेसवे राज्य के नौ जिलों लखनऊ, बाराबंकी, फैजाबाद, आंबेदकरनगर, अमेठी, सुल्तानपुर, आजमगढ़, मऊ और गाजीपुर होकर गुजरेगा। इसके अलावा यह वाराणसी, अयोध्या, इलाहाबाद और गोरखपुर को भी लिंक रोड से जोड़ेगा। 

कीवर्ड expressway, toll,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक