मप्र विधानसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

एजेंसियां | भोपाल Mar 21, 2018 09:41 PM IST

विपक्षी दल कांग्रेस के शोर-शराबे के कारण मध्य प्रदेश विधानसभा बुधवार को निर्धारित समय से एक सप्ताह पहले ही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गई। कांग्रेस के सदस्य लोक निर्माण मंत्री रामपाल सिंह के पुत्र की कथित पत्नी की 'आत्महत्या' पर बहस कराने की मांग कर रहे थे। विधानसभा के माहौल को देखते हुए अध्यक्ष सीताशरण शर्मा ने बिना चर्चा के ही वित्त विधेयक, 2018 पारित होने का  ऐलान कर दिया।  इससे पहले अजय सिंह, गोविंद सिंह और राम निवास रावत सहित कांग्रेस विधायकों ने विधानसभा के मुख्य सचिव को विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए नोटिस सौंपा। इन विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष पर कांगे्रस सदस्यों के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाया। कांग्रेस विधायकों ने दावा किया कि राज्य सरकार को बचाने के लिए अध्यक्ष विभिन्न मुद्दों पर चर्चा कराने की अनुमति नहीं दे रहे हैं। 

 
सदन में कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस विधायकों आरिफ अकील और राम निवास रावत ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने महिला की आत्महत्या पर एक स्थगन प्रस्ताव दिया है। विधायकों ने कहा कि यह संवेदनशील मुद्दा है, इसलिए विधानसभा में इस पर चर्चा होनी चाहिए।  इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि मामले पर प्रश्नकाल के बाद चर्चा कराई जा सकती है। हालांकि कांग्रेस विधायकों ने इस मुद्दे पर तत्काल चर्चा कराने की मांग की, जिसके बाद सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच तनातनी शुरू हो गई।  संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि विपक्ष सदन की कार्यवाही नहीं चलने देना चाहता है, इसलिए तत्काल चर्चा की मांग पर अड़ी है। इस बीच, कांग्रेस के कई सदस्य अध्यक्ष के आसन तक पहुंच गए। 
कीवर्ड madhya pradesh, bhopal, congress,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक