अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव वापस

भाषा | मुंबई Mar 27, 2018 09:40 PM IST

विपक्षी कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने महाराष्ट्र विधानसभा के अध्यक्ष हरीभाऊ  बागड़े के खिलाफ अपना अविश्वास नोटिस आज वापस ले लिया। यह नोटिस विधानसभा के आज के एजेंडे में सूचीबद्ध था। कांग्रेस और राकांपा के 38 विपक्षी सदस्यों के नाम एक वाक्य के प्रस्ताव में लिखे हुए थे। प्रस्ताव में कहा गया था कि विधानसभा अध्यक्ष को उनके पद से हटाया जाए।  बहरहाल, अविश्वास नोटिस जब विचार के लिए सदन के समक्ष नहीं आया तो नेता प्रतिपक्ष राधाकृष्ण विखे पाटिल खड़े हुए और कहा कि विपक्षी नेताओं से इस मुद्दे पर चर्चा की गई और उन्होंने प्रस्ताव स्वीकार करने के लिए दबाव नहीं बनाने का फैसला किया। कांग्रेस विधायक पाटिल ने यह भी कहा कि स्पीकर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव वापस लिया जा रहा है। इससे पहले सरकार ने अध्यक्ष के समर्थन में विश्वास प्रस्ताव रखा था, जो ध्वनि मत से पारित हो गया था।
 
'बाधित कर रहे अधिकारियों को हटाए भाजपा'
 
शिवसेना ने आज भाजपा से कहा कि वह महाराष्ट्र सचिवालय से ऐसे अफसरों को निडर होकर हटाए जो परियोजनाओं पर अमल में देरी करते हैं और विकास को बाधित करते हैं। केंद्र एवं महाराष्ट्र की सत्ता में भाजपा की साझेदार शिवसेना ने यह भी कहा कि किसी योजना के क्रियान्वयन के मुद्दे पर जब वह सरकार की खिंचाई करती है तो इस आलोचना के पीछे के आक्रोश को समझना चाहिए। शिवसेना ने यह टिप्पणी ऐसे समय में की जब एक दिन पहले ही भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने विकास में रोड़े अटकाने वाली नकारात्मक मानसिकता के लिए राज्य की अफसरशाही को आड़े हाथ लिया। गडकरी ने कल नागपुर में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मौजूदगी में यह बात कही थी।
कीवर्ड mumbai, NCP, congress,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक