मप्र में अब 62 की उम्र में सेवानिवृत्ति

बीएस संवाददाता | भोपाल Mar 30, 2018 09:36 PM IST

मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य सरकार के सभी नियमित कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की उम्र 60 से बढ़ाकर 62 वर्ष करने की घोषणा की है। माना जा रहा है कि प्रदेश सरकार के करीब 5 लाख कर्मचारियों को इसका लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को संवाददाताओं से बातचीत के दौरान यह घोषण की। उन्होंने राज्य सरकार के कर्मचारियों की पदोन्नति के मामले में सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय से जुड़े एक प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा कि पदोन्नति में आरक्षण के मामले में सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय की वजह से राज्य सरकार के कई कर्मचारियों को पदोन्नति नहीं मिल पाई है। 
 
उन्होंने कहा कि उनकी सरकार किसी कर्मचारी का पदोन्नति का हक जाया नहीं होने देगी, इसलिए सेवानिवृत्ति की उम्र 60 वर्ष से बढ़ाकर 62 वर्ष की जा रही है। राज्य सरकार ने प्रदेश के अनुसूचित जाति-जनजाति के कर्मचारियों को पदोन्नति में आरक्षण देने का निर्णय लिया था, जिसे उच्च न्यायालय ने पलट दिया। इस मामले में राज्य सरकार की अपील अभी सर्वोच्च न्यायालय में लंबित है।  प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष और कांग्रेस विधायक अजय सिंह ने इसे युवाओं के साथ धोखा करार दिया और शिक्षित बेरोजगारों को कम से कम 2000 रुपये प्रतिमाह बेरोजगारी भत्ता देने की मांग की है। आप के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल ने बिज़नेस स्टैंडर्ड से कहा कि दुनिया की तमाम विकसित और बड़ी अर्थव्यवस्थाएं युवाओं को अधिक से अधिक मौके दे रही हैं, लेकिन यहां उलटी गंगा बह रही है। 
कीवर्ड madhya pradesh, bhopal, retirement,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक