आईआईएम और आईआईटी की मदद लेगी योगी सरकार

बीएस संवाददाता | लखनऊ Apr 02, 2018 09:32 PM IST

सफल निवेशक सम्मेलन के आयोजन के बाद अब निवेश प्रस्तावों को जमीन पर उतारने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार आईआईएम व आईआईटी जैसे संस्थानों की मदद लेगी। औद्योगिक विकास विभाग में जहां मानव संसाधन की जरूरत व कार्यक्षमता का अध्ययन करने व रिपोर्ट तैयार करने के लिए राज्य सरकार आईआईएम, लखनऊ की मदद लेगी, वहीं रक्षा गलियारे जैसी बड़ी परियोजनाओं के साथ ही स्टार्टअप की मदद करने के लिए आईआईटी कानपुर की सहायता ली जाएगी।  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के बाद आईआईटी कानपुर के कार्यवाहक निदेशक मणींद्र अग्रवाल ने रक्षा उपकरणों के निर्माण में हरसंभव मदद की इच्छा जताई है। उन्होंने कहा है कि रक्षा उपकरणों का निर्माण व्यापक संभावनाओं वाला क्षेत्र है, जिसमें आईआईटी कानपुर हर तरह से तकनीकी सहायता उपलब्ध कराकर नए व पुराने उद्यमियों की मदद कर सकता है। निवेशक सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री ने केंद्रीय बजट में घोषित दो रक्षा गलियारों में से एक उत्तर प्रदेश को देने की घोषणा की थी। प्रदेश सरकार ने आईआईटी कानपुर को स्र्टाटअप योजना के तहत नए उद्यम लगाने वालों की भी हर संभव मदद करने को कहा है। 
 
प्रदेश सरकार ने निवेश प्रस्तावों व विभिन्न औद्योगिक इकाइयों के साथ हुए समझौते को धरातल पर लाने के लिए औद्योगिक प्राधिकरणों की आवश्यकताओं व मानव संसाधन का अध्ययन का काम आईआईएम को सौंपने का फैसला किया है। प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि सभी औद्योगिक प्राधिकरणों में उपयुक्त मानव संसाधन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए आईआईएम नोएडा से अध्ययन कराकर रिपोर्ट 15 दिन के अंदर उन्हें प्रस्तुत करने के भी निर्देश दिए गए हैं।
कीवर्ड uttar pradesh, iim, iit,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक