अब जून में आएगा बिहार में पर्यटन की रूप-रेखा

बीएस संवाददाता | पटना Apr 03, 2018 09:24 PM IST

बिहार सरकार के पर्यटन रोडमैप में फिर देर हो गई है। इस रोडमैप को विभाग ने अप्रैल में जारी करने का इरादा किया था, लेकिन अब इसे जून में जारी किया जाएगा। इसके तहत विभाग अगले पांच साल में राज्य के पर्यटक स्थलों के विकास की रूप-रेखा तैयार करने वाली है।  विभाग ने राज्य में पर्यटन के एकीकृत विकास के लिए एक रोडमैप बनाने का फैसला किया था। इसमें राज्य में अलग-अलग पर्यटक स्थलों का ब्योरा होगा और उनके विकास की योजना भी होगी। हालांकि अब इसके लिए तीन महीने और इंतजार करना होगा। 
 
एक विभागीय अधिकारी ने बताया कि यह एक महत्त्वाकांक्षी परियोजना है, इसलिए इसमें सभी पक्षों को शामिल किया गया है। उन्होंने कहा, 'हमने इस रोडमैप का एक मसौदा भी बनाया था। इसमे राज्य के कई अहम स्थलों की जानकारी थी। हालांकि इस बारे में कई विधायकों और विधान पार्षदों ने उनके निर्वाचन क्षेत्रों में मौजूद स्थलों की भी जानकारी दी, जिसे इस मसौदे में शामिल करने में वक्त लग रहा है। हमारी कोशिश सभी सुझावों पर पूरा ध्यान देने की है, इसलिए हमने इस काम को तीन महीने के विस्तारित कर दिया है।'
 
सूत्रों के मुताबिक इस रोडमैप के मसौदे में विभाग ने 300 स्थलों की जानकारी जुटाई थी। इसमें उन स्थलों की ऐतिहासिक महत्ताए भविष्य में विकास की योजना और उन्हें आपस में जोडऩे की पूरी योजना बनाई गई थी। इस बारे में पर्यटन विभाग ने इन सभी स्थलों का पूरा सर्वेक्षण करवा था। साथ हीए विकास में होने वाले खर्च के बारे में भी अंदाजा बताया था। इस काम के लिए विभाग ने अंतरराष्ट्रीय कंसल्टिंग फर्म केपीएमजी को लगाया था।  अधिकारियों के मुताबिक इस बारे में आखिरी मसौदा तैयार करके अगले महीने तक मुख्यमंत्री कार्यालय भेजा जाएगा। वहां से मंजूरी के बाद इसे मंत्रिमंडल के पास भेजा जाएगाए जहां से मंजूरी के बाद इसे लागू किया जाएगा। राज्य में पर्यटकों की रुचि लगातार बढती जा रही है। बीते साल राज्य में करीब 3.4 करोड़ देसी और 11 लाख विदेशी सैलानियों ने रुख किया था। 
कीवर्ड bihar, tourism,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक