पेट्रोल डीजल की रिकॉर्ड कीमतों पर महाराष्ट्र में बढ़ी राजनीति

सुशील मिश्र | मुंबई Apr 04, 2018 09:44 PM IST

पेट्रोल व डीजल के दाम रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने से राज्य में राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई है। महाराष्ट्र में ईधन की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच चुकी हैं। विपक्षी दलों के साथ सत्ता की सरकार में सहयोगी दल भी कीमतें कम करने की मांग कर रही हैं। महाराष्ट्र में कीमत सबसे ज्यादा होने की वजह अधिक उत्पादन शुल्क वसूला जाना है। वित्त वर्ष की शुरुआत से ही ईंधन की कीमतें अपने रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गईं। महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में पेट्रोल के दाम 84 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच चुके हैं, जबकि डीजल 70 रुपये पार कर गया है। पेट्रोल-डीजल की सबसे ज्यादा कीमत राज्य के परमाणी इलाके में है।  मुंबई में पेट्रोल की कीमत 81.80 रुपये प्रति लीटर और डीजल का भाव 69.06 रुपये प्रति लीटर पहुंच चुका है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें बढऩे से आने वाले समय में इनकी कीमतों में और बढ़ोतरी की आशंका जताई जा रही है। इस वजह से मुद्दे को राजनीतिक दल जोर शोर से उठा रहे हैं। विपक्षी दलों का कहना है कि सरकार उत्पाद शुल्क में कटौती नहीं करेगी तो वे सड़कों पर उतरेंगे। 
 
महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने सरकार पर महंगाई बढ़ाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि ईंधन की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच चुकी हैं और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमतें कम होने के बावजूद लोगों को उसका फ ायदा नहीं मिला। पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान ने माना कि देश में पेट्रोल-डीजल वाजिब दाम पर मिलना चाहिए। प्रधान ने दाम कम करने के लिए जीएसटी परिषद से पेट्रोल-डीजल के दाम जीएसटी के दायरे में लाने का फैसला जल्द करने की अपील की। 
कीवर्ड mumbai, petrol, diesel,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक