जीएसटी नहीं अपनाने वाले वैट डीलरों पर सख्ती

रामवीर सिंह गुर्जर | नई दिल्ली Apr 11, 2018 09:44 PM IST

राजस्‍व पर चपत का अनुमान

5 करोड़ से ज्यादा टर्नओवर व जीएसटी पंजीयन न कराने वालों पर खास नजर
अधिकारियों को जीएसटी में न जाने वाले वैट डीलरों की जानकारी जुटाने के निर्देश
दिल्ली के 25 फीसदी वैट पंजीकृत कारोबारियों ने नहीं अपनाई जीएसटी प्रणाली

दिल्ली सरकार ऐसे वैट डीलरों पर सख्ती करने जा रही है, जिन्होंने अब तक जीएसटी प्रणाली को नहीं अपनाया है। दिल्ली वैट व जीएसटी विभाग जीएसटी पंजीयन न कराने वाले वैट डीलरों पर शिकंजा कसेगा। सरकार की 5 करोड़ रुपये से ज्यादा सालाना कारोबार करने वाले ऐसे वैट डीलरों पर खास नजर है, जिन्होंने अब तक जीएसटी प्रणाली में पंजीयन नहीं करवाया है। दरअसल विभाग को जीएसटी न अपनाने वाले वैट डीलरों से राजस्व चपत लगने का अनुमान है। दिल्ली जीएसटी विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कुछ वैट पंजीकृत कारोबारियों ने जीएसटी प्रणाली को नहीं अपनाया है। 

लिहाजा विभाग के सभी जोनल व वार्ड प्रभारियों को जीएसटी प्रणाली न अपनाने वाले वैट डीलरों की जानकारी जुटाकर विश्लेषण करने को कहा गया है। प्रभारियों को तीन श्रेणी के आधार पर विश्लेषण करने को कहा गया है। पहली प्रभारी ऐसे वैट डीलरों की जानकारी जुटाएंगे जो कार्यरत (एक्टिव) हैं, लेकिन उन्होंने जीएसटी प्रणाली में पंजीयन नहीं कराया है। दूसरे ऐसे डीलरों की जानकारी जुटाई जाएगी जो ना तो कार्यरत हैं और ना ही उन्होंने जीएसटी प्रणाली अपनाई है।

अधिकारी ने कहा प्रभारियों को ऐसे में डीलरों पर खास ध्यान देने के निर्देश दिए गए हैं, जिनका सालाना कारोबार 5 करोड़ रुपये से अधिक है और उन्होंने जीएसटी प्रणाली नहीं अपनाई। अधिकारी ने बताया कि प्रभारियों को उपरोक्त तीन अहम श्रेणी के आधार पर जुटाई गई जानकारी का जोन के हिसाब से प्रजेंटेशन देने के निर्देश दिए गए हैं। ये प्रजेंटशन अगले सप्ताह से शुरू होंगे।

दिल्ली वैट विभाग में जीएसटी प्रणाली लागू होने से पहले 4.5 लाख से अधिक वैट पंजीकृत डीलर थे। इनमें से 75 फीसदी डीलर जीएसटी प्रणाली अपना चुके हैं। दिल्ली में 2.25 लाख नये कारोबारी जीएसटी प्रणाली में जुड़ चुके हैं। अधिकारी ने कहा जीएसटी प्रणाली न अपनाने वाले 25 फीसदी वैट डीलरों में कुछ डीलर 20 लाख रुपये से कम कारोबार वाले भी हो सकते हैं, जिनके लिए जीएसटी पंजीयन आवश्यक नहीं हैं।
कीवर्ड VAT, Delhi, GST, वस्तु एवं सेवा कर, जीएसटी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक