रेलवे ने सुरक्षा के लिए घटाई रफ्तार

बीएस संवाददाता | पटना Apr 13, 2018 09:55 PM IST

भारतीय रेल ने सुरक्षा बढ़ाने के लिए कई ट्रेनों की रफ्तार कम कर दी है। इस वजह से भारतीय रेल की करीब 35 फीसदी रेलगाडिय़ां देरी से चलती हैं। वहीं दुर्घटनाएं कम करने के लिए रेल मंत्रालय बुनियादी ढांचे पर मोटा निवेश कर रहा है।  रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अश्विनी लोहानी के मुताबिक भारतीय रेल नए ट्रैक बिछाने के काम में जी-जान से जुटी हुई है। साथ ही बड़े संस्थागत बदलाव भी किए जा रहे हैं। लोहानी शुक्रवार को पटना में आयोजित रेल सप्ताह समारोह में हिस्सा लेने के लिए आए हुए थे। इस मौके पर उन्होंने पत्रकारों से कहा, 'प्रचलित धारणा के विपरीत भारत में 65 फीसदी ट्रेनें समय पर चलती हैं। हां, बाकी की 30-35 फीसदी ट्रेनों के परिचलन में देरी जरूर होती है, लेकिन इसके कई कारण हैं। हम इस वक्त सुरक्षा और संरक्षा पर सबसे ज्यादा ध्यान दे रहे हैं, जिस वजह से भी ट्रेनों की रफ्तार कम हुई है। हम अपने यात्रियों की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं कर सकते है। हमारी कोशिश यात्रियों को एक सुखद अनुभूति देने की है।' 
 
दरअसल दिल्ली-कोलकाता के रास्ते में ट्रेनों के देरी से चलने की शिकायतें आ रही थी, जिसके बाद रेलवे बोर्ड ने इस रूट पर ट्रेनों की रफ्तार 110 से बढ़कर 130 किमी प्रति घंटा करने की इजाजत दी है। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने बुनियादी ढांचे के विकास पर भी ध्यान देने की बात कही। उन्होंने कहा, 'आज रेलवे में सबसे ज्यादा जरूरत बुनियादी ढांचे पर जोर देने की है। बीते वर्षों में रेलवे में ट्रेनों की तादाद 2.5 गुना बढ़ी है, जबकि उस अनुपात में ट्रैक नहीं बढ़ पाए हैं।' 
कीवर्ड railway, time table, accident,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक