सोलर पंपिंग सेट देगा नाबार्ड

आर कृष्णा दास | रायपुर Apr 16, 2018 09:47 PM IST

राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) ने छत्तीसगढ़ के गैर-विद्युतीकृत गांवों में सौर सुजाला योजना के तहत सौर ऊर्जा आधारित सिंचाई पंप सेट मुहैया कराने के लिए परियोजना को मंजूरी दी है। इन गांवों में से अधिकांश गांव नक्सल प्रभावित बस्तर इलाके के हैं। देश में नाबार्ड की यह पहली परियोजना होगी जिसमें छोटी सिंचाई परियोजना के लिए ग्रामीणों को सौर पंपिंग सेट दिए जाएंगे। इससे गैर-विद्युतीकृत गांवों के किसानों को राहत मिलेगी और वे कई तरह की फसल की पैदावार लेने में सक्षम होंगे।

 
नाबार्ड छत्तीसगढ़ के मुख्य महाप्रबंधक एनपी महापात्र ने कहा, 'नाबार्ड छत्तीसगढ़ क्षेत्र ने वित्त वर्ष 2017-18 में सौर सुजाला पंप सेट परियोजना के लिए 500.77 करोड़ रुपये आवंटित करने का लक्ष्य रखा है।' उन्होंने कहा कि  गैर-विद्युतीकृत इलाके और सुदूरवर्ती गांवों के छोटे किसानों के लिए 25,000 पंप सेट लगाए जाएंगे। 5 एचपी के पंपिंग सेट से प्रतिदिन करीब 1.24 लाख लीटर पानी की आपूर्ति की जा सकती है। महापात्र ने कहा कि सौर ऊर्जा से चलने वाले पंपिंग सेट से किसानों को बिजली बिल से राहत मिलेगी और यह परियोजना किसानों की आय दोगुना करने में उत्प्रेरक का काम करेगा। वर्ष 2017-18 में नाबार्ड ने छत्तीसगढ़ में कुल 4,486 करोड़ रुपये की वित्तीय मदद दी है, जो पिछले साल की तुलना में करीब 18 फीसदी अधिक है। इस दौरान नाबार्ड ने राज्य में ग्रामीण इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास कोष (आरआईडीएफ) के लिए 1,087 करोड़ रुपये आंवटित किया। इससे ग्रामीण इलाकों में बुनियादी ढांचे का विकास किया जाता है। महापात्र ने कहा कि वन्य उत्पादों को कम कीमत में बेचने से बचाने और उसका मूल्यवर्धन के लिए नाबार्ड बस्तर जिले में प्रायोगिक तौर पर दो परियोजनाएं लागू करेगी। 
कीवर्ड nabard, solar pump, chattishgarh,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक