बुंदेलखंड में रक्षा गलियारा

बीएस संवाददाता | लखनऊ Apr 16, 2018 09:48 PM IST

उत्तर प्रदेश के पिछड़े बुंदेलखंड में जल्दी ही 20,000 करोड़ रुपये का औद्योगिक निवेश होगा। माना जा रहा है कि इस निवेश से 3 लाख से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। प्रदेश सरकार ने रक्षा गलियारे के लिए बुंदेलखंड क्षेत्र में 3,000 हेक्टेयर जमीन चिह्नित की है। इस गलियारे को लेकर आज झांसी में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बीच बैठक हुई। बैठक में भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के अधिकारियों सहित बुंदेलखंड के स्थानीय उद्यमी भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बुंदेलखंड में विकसित हो रहे गलियारे को तकनीकी सहायता देने के लिए आईआईटी कानपुर, रुड़की और वाराणसी को इससे जोड़ा जाएगा। 
 
बैठक में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए जनरल साहा ने कहा कि बुंदेलखंड के रक्षा गलियारे से सेना की उत्तरी कमान को काफी मदद मिलेगी। साहा ने कहा कि यहां निर्मित होने वाली सैन्य सामग्री केवल एक दिन में उत्तरी कमान के पास पहुंच जाएगी। रक्षा मंत्री ने कहा कि बुंदेलखंड के नौजवानों को इस रक्षा गलियारे के जरिये रोजगार दिलाने के लिए स्थानीय इंजीनियरिंग व पॉलिटेक्निक कॉलेज को भी इससे जोड़े जाएंगे। मुख्यमंत्री झांसी के जनसभा स्थल क्राफ्ट मेला मैदान पहुंचे, जहां उन्होंने लोक कल्याणकारी परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकापर्ण किया। आदित्यनाथ ने बुंदेलखंड को रक्षा गलियारे में 20,000 करोड़ रुपये निवेश की सौगात दी। उन्होंने बताया कि इस निवेश से बुंदेलखंड के लगभग 50 लाख युवाओं को प्रत्यक्ष व परोक्ष रोजगार उपलब्ध हो सकेगा।  उन्होंने कहा, 'बुंदेलखंड के युवा रोजगार के लिए दिल्ली मुंबई जाने के लिए मजबूर हैं,  लेकिन प्रदेश सरकार की इस योजना से युवाओं को अब बुंदेलखंड में ही रोजगार उपलब्ध होगा। इससे वे अपने घर पर ही रहकर अपने परिवार का सही ढंग से पालन पोषण कर सकेंगे। 
कीवर्ड defense, military, bundelkhand,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक