नकदी किल्लत से हाहाकार

बीएस संवाददाता | पटना Apr 16, 2018 09:48 PM IST

बिहार में नकदी की किल्लत से कारोबारी परेशान हैं। उन्होंने इस बारे में रिजर्व बैंक, केंद्र और राज्य सरकार से तुरंत हस्तक्षेप करने की मांग की है। रिजर्व बैंक ने इस बारे में कदम उठाने का आश्वासन दिया है।  पिछले दो-तीन माह से राज्य में नकदी की कमी की समस्या है तथा पिछले एक माह से स्थिति गंभीर हो गई है। राज्य की अधिकतर बैंक शाखाओं और एटीएम में रुपये काफी कम है। वहीं छोटे शहरों तथा ग्रामीण क्षेत्रों में स्थिति काफी गंभीर है।  सूत्रों के मुताबिक इन इलाकों मे एटीएम कई दिनों से बंद पड़े हुए हैं, जबकि शाखाओं में हफ्ते या एक-दो दिन बाद ही नकद राशि मिल रही है। कारोबारियों के मुताबिक इससे व्यवसाय पर बुरा असर पड़ रहा है। वहीं बैंक अधिकारी भी नकदी की किल्लत से लोगों के साथ विवाद की शिकायत कर रहे हैं। हाल ही में सारण जिले के मोहम्मदपुर गांव में स्टेट बैंक की शाखा में नकदी नहीं रहने की वजह से लोगों ने काफी हंगामा किया जिसके बाद शाखा के प्रबंधक ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया।
 
बिहार चैंबर ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष पी के अग्रवाल के मुताबिक तो राज्य में बैंकिंग व्यवस्था चरमरा गई है। उनके मुताबिक लगन के इस मौसम में नकदी की किल्लत से राज्य के कारोबार पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है।  उन्होंने कहा कि आज राज्य की ज्यादातर बैंक शाखाओं और एटीएम में पैसा नहीं है। एक ओर बैंक सेवा के नाम पर ग्राहकों से शुल्क वसूलते हैं जबकि उसी ग्राहक को बैंक पैसा देने में नाकाम है। इससे राज्य के आम ग्राहकों के साथ कारोबारियों पर बहुत असर पड़ रहा है। कारोबारियों के मुताबिक अब खरीफ  की तैयारी शुरू होने वाली है। ऐसे में नकदी की किल्लत से खेतीबाड़ी चौपट हो जाएगी। हालांकि बैंकों के मुताबिक रिजर्व बैंक की ओर से ही कम नकद दी जा रही है जिससे बैंकों में नकदी की कमी हो गई है। 
कीवर्ड bihar, cash, bank, ATM,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक