नगरनार संयंत्र को हो सकती है पानी की दिक्कत

आर कृष्णा दास | रायपुर Apr 20, 2018 10:21 PM IST

ओडिशा के कोरापुट जिले में प्रस्तावित मध्य कोलाब परियोजना की वजह से छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले में बनने वाले एनएमडीसी के स्टील संयंत्र को पानी की भारी कमी का सामना करना पड़ सकता है। एनएमडीसी अपने कारोबार को विविधीकृत करने के मकसद से मूल्यवर्धन और एकीकरण कार्यक्रम के तहत बस्तर जिले के नगरनार में 30 लाख सालाना क्षमता का एकीकृत स्टील संयंत्र स्थापित कर रही है। नगरनार परियोजना स्थल छत्तीसगढ़ और ओडिशा राज्य की सीमा पर है। 

छत्तीसगढ़ सरकार ने एनएमडीसी के साथ प्रस्तवित संयंत्र को पानी की आपूर्ति करने का करार किया है। राज्य के जल संसाधन विभाग ने नगरनार संयंत्र को इंद्रावती और साबरी नदी से पानी की आपूर्ति करने की योजना बनाई है। हालांकि कोलाब नदी पर प्रस्तावित सिंचाई परियोजना इसके राह में बाधा खड़ी कर सकती है। यह सिंचाई परियोजना ओडिशा के कोरापुट जिले में पूर्वी घाट की पश्चिमी ढलान से शुरू होगी और छत्तीसगढ़ के बस्तर इलाके में सबरी नदी के साथ प्रवाहित होगी। इससे सबरी नदी में पानी की मात्रा कम हो सकती है। 


राज्य सरकार ने अपनी इस चिंता से जल संसाधान पर पूर्वी राज्यों की कोलकाता में हुई पहली बैठक में केंद्र सरकार को अवगत कराया था। इस बैठक में इन राज्यों के जल संबंधी मसलों पर चर्चा की गई। बैठक में बिहार, छत्तीसगढ़, झारखंड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के प्रतिनिधि शामिल हुए, वहीं बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय जल संसाधन मंत्री अरुण राम मेघवाल ने की।

छत्तीसगढ़ के जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा, 'हमने एनएमडीसी के नगरनार संयंत्र को पानी आपूर्ति करने की अपनी प्रतिबद्घता से केंद्र सरकार को अवगत कराया है। अगर ओडिशा कोलाब परियोजना पर आगे बढ़ती है तो स्टील संयंत्र को पानी की आपूर्ति में मुश्किल आ सकती है।' 
कीवर्ड ओडिशा, कोरापुट, छत्तीसगढ़, बस्तर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक