नाणार रिफाइनरी अधिसूचना रद्द होने पर संशय

सुशील मिश्र | मुंबई Apr 23, 2018 09:41 PM IST

महाराष्ट्र के रत्नागिरि में प्रस्तावित नाणार पेट्रो-रसायन रिफाइनरी शुरू होने से पहले ही बंद होने के कगार पर पहुंच गई है। परियेाजना के विरोध के बीच अब इसके लिए जारी भू-अधिसूचना पर संशय की स्थिति बन गई है।  राज्य के उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने नाणार रिफाइनरी परियोजना की अधिसूचना रद्द करने का ऐलान किया है, जबकि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भू अधिसूचना रद्द होने की बात से इनकार किया। राज्य की भाजपा सरकार में सहयोगी शिवसेना इस परियोजना का विरोध कर रही है। 
 
शिवसेना का कहना है कि इस रिफाइनरी से रत्नागिरि समेत पूरे कोंकण क्षेत्र में पर्यावरण को नुकसान पहुंच सकता है। शिवेसना प्रमुख उद्धव ठाकरे का कहना है कि उनकी पार्टी राज्य सरकार को परियोजना स्थल के समीप गांव से एक इंच जमीन लेने नहीं देगी। उन्होंने कहा, 'भाजपा हमें यह कहकर डरानेे की कोशिश कर रही है कि परियोजना गुजरात चली जाएगी। अगर परियोजना गुजरात जाती है तो जाने दें क्योंकि विकास के नाम पर कोंकण क्षेत्र को बर्बाद करने की इजाजत नहीं दी जाएगी। कोंकण की एक इंच जमीन इस परियोजना के नाम नहीं होगी।'
 
मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि अधिसूचना रद्द करने का अधिकार किसी मंत्री के पास नहीं है। उन्होंने कहा कि पार्यावरण को नुकसान और सुरक्षा संबंधी चिंताओं का हवाला देकर लोगों में भ्रम फैलाया जा रहा है।  उन्होंने कहा, 'यह अधिसूचना रद्द नहीं हुई है। यह परियोजना कोंकण सहित पूरे देश के हित में है।' भाजपा छोड़कर लगभग सभी दल इस रिफाइनरी परियोजना का विरोध कर रहे हैं। स्थानीय लोग भी परियोजना के विरोध में खड़े दिखाई दे रहे हैं। 
कीवर्ड mumbai, refinery,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक