जेवर हवाई अड्डा 2022 तक

बीएस संवाददाता | लखनऊ Apr 24, 2018 09:34 PM IST

उत्तर प्रदेश के जेवर में प्रस्तावित अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के लिए जमीन अधिग्रहण का काम अगले महीने शुरू होगा। केंद्र सरकार की ओर से जेवर हवाई अड्डïे को सैद्धांतिक मंजूरी मिलने के बाद इस परियोजना पर जल्द काम शुरू होगा। इस परियोजना पर चार चरणों में 15,754 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। गौतम बुद्ध नगर में जेवर के निकट नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डïे के विकास के लिए राज्य सरकार के प्रस्ताव पर केंद्र सरकार ने सोमवार को संंचालन समिति की बैठक में औपचारिक रूप से सहमति दे दी है। 
 
बीते साल जुलाई में केंद्र सरकार की संचालन समिति ने परियोजना स्थल को मंजूरी दी थी। यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण को  इस परियोजना के लिए नोडल एजेंसी नामित किया गया था। इस परियोजना की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) व तकनीकी आर्थिक व्यवहार्यता अध्ययन रिपोर्ट प्राइसवाटर हाउस कंसल्टेंट ने तैयार की है। रिपोर्ट के मुताबिक परियोजना के लिए कुल 8 गांवों की 1,441  हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जाना प्रस्तावित है। इस जमीन पर चार चरणों में निजी सार्वजनिक सहभागिता के आधार पर लगभग 15,754 करोड़ रुपये का निवेश होने का अनुमान है। इस परियोजना में दो  रनवे बनाए जाएंगे और हवाई अड्डïे की कुल यात्री वहन क्षमता 7 करोड़ यात्री सालाना होगी जबकि कार्गो की क्षमता 30 लाख टन सालाना होगी। परियोजना  रिपोर्ट के मुताबिक जमीन की खरीद या अधिग्रहण का काम एक साल में पूरा हो जाने पर हवाई अड्डा 2022 तक बनकर तैयार हो जाएगा। प्रदेश सरकार के प्रवक्ता के मुताबिक जेवर हवाई अड्डïे पर विमानों के परिचालन के साथ-साथ एमआरओ, कार्गो और पायलट प्रशिक्षण संस्थान समेत अन्य गतिविधियों का परिचालन किया जाएगा।
कीवर्ड jevar, airport,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक