उत्पादन क्षमता बढ़ाएगी एनएमडीसी

आर कृष्णा दास | रायपुर Apr 24, 2018 09:38 PM IST

सार्वजनिक क्षेत्र की खनन कंपनी एनएमडीसी 2019-20 में लौह अयस्क उत्पादन की क्षमता बढ़ाकर 5 करोड़ टन करने की योजना बनाई है। देश की सबसे बड़ी लौह-अयस्क निर्यातक और उत्पादक कंपनी का लक्ष्य 2021-22 तक 6.7 करोड़ टल लौह-अयस्क उत्पादन करने की है। इसी लक्ष्य के अनुरूप कंपनी ने उत्पादन क्षमता बढ़ाने की योजना बनाई है। कंपनी का लक्ष्य स्टील उत्पादन के लिए कच्चे माल की बढ़ी मांग को पूरा करना है। कंपनी इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए रणनीति भी तैयार की है।

 
एनएमडीसी के चेयरमैन एन बैजेंद्र कुमार ने बिज़नेस स्टैंडर्ड को बताया, 'एनएमडीसी ने छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम (सीएमडीसी) के साथ मिलकर एनसीएल नाम से संयुक्त उपक्रम बनाया है, जिसके जरिये छत्तीसगढ़ में लौह-अयस्क का खनन करना है।' उन्होंने कहा कि कंपनी अन्य राज्यों में भी ऐसे ही संयुक्त उपक्रम गठित करने की संभावना तलाश रही है। कुमार ने कहा कि एनएमडीसी ने छत्तीसगढ़ सरकार से एक लौह-अयस्क खदान देने को कहा है। कंपनी नई खनन नीति के तहत लौह-अयस्क खदानों की नीलामी में सक्रियता से बोली लगाने की योजना पर काम कर रही है। उन्होंने कहा, 'एनएमडीसी ओडिशा और अन्य राज्यों में लौह-अयस्क खदानों की नीलामी में हिस्सा ले सकती है।'
 
कंपनी ने आपूर्ति करार को पूरा करने के लिए 2918-19 में 3.7 करोड़ टन लौह-अयस्क उत्पादन का लक्ष्य रखा था। इससे पिछले वित्त वर्ष में एनएमडीसी का उत्पादन 3.55 करोड़ टन रहा, जो कंपनी के 60 वर्षों के इतिहास में सबसे ज्यादा है।  कुमार ने कहा, 'वित्त वर्ष 2017-18 में कंपनी की बिक्री भी शानदार रही और इस दौरान 3.64 करोड़ टन लौह-अयस्क की बिक्री की गई।' 
कीवर्ड NMDC, steel, iron ore,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक