मुंबई विकास योजना का विरोध शुरू

सुशील मिश्र | मुंबई Apr 27, 2018 09:57 PM IST

मुंबई के लिए तैयार नई विकास योजना में नमक वाली जमीन पर घर बनाने की अनुमति देने और बिल्डरों को अधिक फ्लोर स्पेस इंडेक्स (एफएसआई) दिए जाने का विरोध शुरू हो गया है। विपक्षी दलों के अलावा कई सामाजिक संगठन भी इसका विरोध कर रहे हैं। दूसरी ओर बिल्डर लॉबी ने इसका स्वागत करते हुए कहा है कि इससे सबको सस्ते घर मिलेंगे।  मुंबई में खार जमीन का कुल क्षेत्रफल 721.46 हेक्टेयर है जिसके 130 हेक्टेयर पर निर्माण कार्य करने की तैयारी है जहां गरीब और आम जनता के लिए सस्ते घर बनाए जाने हैं। मुंबई विकास योजना में व्यावसायिक एवं आवासीय इमारतों के लिए एफएसआई में इजाफा किया गया है। आवासीय जमीन के लिए एफएसआई 1.33 से बढ़ाकर 3 और व्यावसायिक इमारतों के लिए 3 से बढ़ाकर 5 कर दिया गया है। उपनगरों में आवासीय इमारतों के लिए एफएसआई 2 से बढ़ाकर 2.5 और व्यावसायिक के लिए 2.5 से बढ़ाकर 5 किया गया है। गृह निर्माण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजय कुमार का कहना है कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मुंबई में 5 लाख और मुंबई महानगर क्षेत्र में 5 लाख घर बनाएं जाएंगे। 
 
मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने गुरुवार को विकास योजना 2034 को पेश किया था। सिटीजन सिविक सॉल्यूशंस फाउंडेशन के प्रवक्ता मितेश प्रजापति ने कहा कि वह व्यावसायिक इमारतों को 5 एफएसआई देने का पुरजोर विरोध करते हैं और इसके खिलाफ अदालत जाएंगे। इससे सिर्फ और सिर्फ बिल्डरों का फायदा होने वाला है। इससे पहले आईटी सेंटर के नाम पर कई इमारतों ने एफएसआई का फायदा लिया लेकिन आईटी सेंटर कहीं भी मौजूद नहीं। उसी तर्ज पर कानूनी रूप से एक बड़े भ्रष्टचार का रास्ता साफ किया जा रहा है। नई योजना को लेकर राजनीति भी गरमाने लगी है। कांग्रेस के मुंबई अध्यक्ष संजय निरुपम ने कहा कि यह बड़े बिल्डरों और रियल एस्टेट को जमीन देने की साजिश है। हालांकि, रियल एस्टेट ने इस योजना का खुले दिल से स्वागत किया है। 
कीवर्ड mumbai, FSI,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक