जिला स्तर पर विकसित होंगे उद्योग

बीएस संवाददाता | पटना Apr 29, 2018 09:51 PM IST

बिहार सरकार ने जिला स्तर पर उद्योगों को बढ़ावा देने की रणनीति बनाने का फैसला लिया है। इसके लिए जिला स्तर पर ही निवेशकों की समस्याएं निपटाने की कोशिश की जाएगी, वहीं स्टार्टअप पर खास ध्यान दिया जाएगा।  उद्योग विभाग ने राज्य के सभी हिस्सों में उद्योगों के विकास के लिए एक नई योजना बनाई है। इसके तहत विभाग ने हर जिले में एक औद्योगिक संकुल बनाने का फैसला लिया है। इस संकुल में उद्यमियों और निवेशकों को सभी बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। इनमें समान सुविधा केंद्र भी खोले जाएंगे जहां उद्यमियों के प्रशिक्षण की व्यवस्था होगी। 
 
स्टैंड अप इंडिया, मुद्रा योजना और दूसरी योजनाओं के जरिये वित्त भी इन्हीं संकुलों से मुहैया कराया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकार अपने स्तर से सारी बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराएगी। विभाग ने सभी जिला उद्योग पदाधिकारियों को इस बारे में जल्द से जल्द काम शुरू करने का आदेश दिया है। उद्योग विभाग के प्रधान सचिव एस सिद्धार्थ ने बताया, 'हम इनके जरिये राज्य के हर जिले में लघु उद्योगों का एक ऐस समूह तैयार करना चाहते हैं, जो भविष्य की दिक्कतों का मुकाबला करने में स्वयं सक्षम हो।' 
 
राज्य सरकार की इस योजना के तहत स्टार्टअप पर खासा जोर होगा। इसके विभाग अपने खर्च पर छोटे-छोटे शहरों मे स्टार्टअप को बुनियादी ढांचा मुहैया कराएगा। इसके तहत हर जिले में एक केंद्र खोलने पर राज्य सरकार विचार कर रही है। इन केंद्रों में स्टार्टअप को कार्यालय, बैठक के लिए हॉल, टेलीफोन, इंटरनेट और कंप्यूटर की सुविधा मिलेगी। इसके साथ ही राज्य के इनक्यूबेटर्स के साथ मिलकर उनके प्रशिक्षण का इंतजाम भी राज्य सरकार करेगी। सरकार अपने वेंचर फंड से इन्हें आगे बढऩे के लिए पैसे मुहैया कराएगी।  राज्य के उद्योग मंत्री जय कुमार सिंह ने बताया, 'हमारी कोशिश स्टार्टअप क्रांति को छोटे-छोटे शहरों तक ले जाने की है। इससे युवाओं को बल मिलेगा और रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।' राज्य सरकार को स्टार्टअप बिहार के तहत करीब 4,700 आवेदन मिले। इनमें से राज्य सरकार की ओर से 900 आवेदनों का चयन किया गया, जिनमें से 53 को राज्य सरकार ने शून्य ब्याज पर 10 लाख रुपये तक देने का फैसला लिया है।
कीवर्ड bihar, invest,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक