यूपी में निजी विश्वविद्यालय खोलना हुआ आसान

बीएस संवाददाता | लखनऊ May 01, 2018 09:34 PM IST

उत्तर प्रदेश में अब निजी विश्वविद्यालय खोलना आसान हो गया है। राज्य सरकार ने इसके लिए जरूरी जमीन की सीमा घटा दी है। साथ ही बिजली क्षेत्र की करछना परियोजना के लिए नए सिरे से निविदा मंगाने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई मंत्रिपरिषद की बैठक में 7 अहम प्रस्तावों पर मंजूरी दी गई। सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने बताया कि बैठक में कुल 14 प्रस्ताव रखे गए थे जिसमें निजी क्षेत्र में विश्वविद्यालय के लिए भूमि संशोधन का प्रस्ताव पास हुआ है। प्रदेश में निजी विश्वविद्यालय खोलने के लिए जमीन के मानक को बदला गया है। अब इसके लिए शहरी क्षेत्र में 20 एकड़ और ग्रामीण क्षेत्र में 50 एकड़ जमीन की जरूरत होगी। इससे निजी क्षेत्र को सहूलियत होगी और निवेश आएगा।
 
एक अन्य अहम फैसले में प्रदेश मंत्रिपरिषद ने करछना बिजली परियोजना के लिए नए सिरे से निर्माण एजेंसी के लिए बोली की प्रक्रिया शुरू करने का फैसला किया है। पहले इस परियोजना को निजी क्षेत्र की कंपनी संगम पावर को दिया गया था। बाद में इसे रद्द करते हुए परियोजना उत्तर प्रदेश विद्युत निगम लिमिटेड को सौंप दी गई थी। आज मंत्रिपरिषद ने एक बार फिर से परियोजना को निजी क्षेत्र में दिए जाने के प्रस्ताव पर सहमति जताते हुए नए सिरे से निविदा मंगाने का फैसला किया है। मंत्रिपरिषद ने साथ ही ललितपुर में भवानी बांध परियोजना के लिए अनुमोदित लागत के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। ललितपुर में बांध की इस परियोजना पर 512.74 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। ललितपुर में बंडई बांध परियोजना के लिए अनुमोदित लागत 303.53 करोड़ रुपये को मंजूरी दी गयी है। इसके अलावा मंत्रिपरिषद ने सीतापुर-बहराइच मार्ग पर घाघरा नदी पर पुल के निर्माण की योजना को भी मंजूरी दी है।
कीवर्ड uttar pradesh, education, university,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक