नाणार परियोजना पर नहीं थम रहा सियासी घमासान

सुशील मिश्र | मुंबई May 02, 2018 09:50 PM IST

महाराष्ट्र के रत्नागिरि में प्रस्तावित नाणार पेट्रो-रसायन रिफाइनरी परियोजना पर सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। शिवसेना के बाद अब कांग्रेस ने भी इस इलाके में जनसभा कर रिफाइनरी नहीं लगने देने की बात कही है। कांग्रेस के महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने भाजपा और शिवेसना दोनों पर निशाना साधा।  उन्होंने कहा कि शिवसेना केवल दिखावे के लिए विरोध कर रही है, लेकिन वास्तविकता यह है कि वह राज्य सरकार का हरेक निर्णय में साथ दे रही है। चव्हाण ने कहा कि यह विकास की नहीं बल्कि विनाश की परियोजना है। 
 
उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों के भारी विरोध के बावजूद राज्य सरकार रत्नागिरि में परियोजना लगाने पर अड़ी है। चव्हाण ने कहा, 'जनभावनाओं का विरोध कर यह परियोजना नहीं लगाई जा सकती है।' पिछले दिनों नाणार रिफाइनरी विरोध समिति के सदस्यों ने दिल्ली जाकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी और कोंकण में बनने वाली इस रिफाइनरी के विरोध के लिए कांग्रेस का समर्थन मांगा था।  कोंकण में बनने वाली इस रिफाइनरी का भाजपा छोड़कर महाराष्ट्र के लगभग सभी राजनीतिक दल विरोध कर रहे हैं। शिवसेना और राकांपा इस इलाके में पहले ही जनसभा करके रिफाइनरी का विरोध कर चुकी हैं। इस रिफाइनरी का विरोध कर रहे स्थानीय लोगों का कहना है कि इस परियोजना से कोंकण का प्राकृतिक सौंदर्य नष्ट हो जाएगा। कुछ दिनों पहले राज्य के उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने नाणार परियोजना की जमीन संबंधी अधिसूचना रद्द करने की घोषणा की थी, लेकिन इसके तुरंत बाद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उनकी बात का खंडन कर दिया। 
कीवर्ड mumbai, petroleum,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक