उप्र में बढ़ेगी खाद्यान्न भंडारण क्षमता

बीएस संवाददाता | लखनऊ May 03, 2018 09:46 PM IST

भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) उत्तर प्रदेश में अपनी भंडारण क्षमता 12 लाख टन और बढ़ाएगा। एफसीआई राज्य में 12 लाख टन भंडारण क्षमता का अत्याधुनिक स्टील साइलो बना रहा है। इनमें सात लाख टन क्षमता के साइलो के लिए निविदा प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है।  केंद्र सरकार ऐसे छात्रावासों को गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) दी जाने दरों पर खाद्यान्न की आपूर्ति करेगी, जहां पिछड़े, दलित और अल्पसंख्यक वर्ग के दो तिहाई के ज्यादा छात्र रहते हैं।  केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान ने  गुरुवार को लखनऊ में कहा कि रबी विपणन सत्र 2018-19 में 50 लाख टन गेहूं का उत्पादन होने का अनुमान है। अप्रैल में पिछले वर्ष के 9.04 लाख टन खरीदारी के मुकाबले इस वर्ष 19.03 लाख टन गेहूं की खरीद हो चुकी है। पासवान ने कहा कि भारत सरकार की मूल्य समर्थन योजना के तहत हो रही खरीद में अब तक उत्तर प्रदेश के कुल 3,23,431 किसानों को उनके बैंक खातों में सीधे  3,321 करोड़ रुपये अंतरित किए जा चुके हैं। 
 
इससे पहले खरीफ विपणन वर्ष 2017-18 में कुल 4,92,913 किसानों से सरकार ने 42.90 लाख टन धान की रिकॉर्ड खरीदारी की थी। इसके एवज में किसानों को 6,663 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया था।  पासवान ने बताया कि उत्तर प्रदेश में मार्च 2016 से राष्ट्रीय खाद्य संरक्षा अधिनियम (एनएफ एसए) सभी 75 जनपदों में लागू होने से प्रदेश में कुल 14.98 करोड़ लाभार्थियों को वितरण के लिए 57.12 लाख टन गेहूं एवं 38.88 लाख टन चावल की सालाना जरुरत होती है। इस योजना में लाभार्थियों को गेहूं 2 रुपये प्रति किलो एवं चावल 3 रुपये प्रति किलो की दर से उपलब्ध कराए जा रहे हैं।
कीवर्ड agri, farmer, crop, monsoon, FCI,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक