सीएनजी वाहनों को बिहार में मिलेगा बढ़ावा

बीएस संवाददाता | पटना May 10, 2018 10:18 PM IST

पटना में प्रदूषण के खतरनाक स्तर को देखते हुए बिहार सरकार बैटरी और सीएनजी चालित वाहनों की बिक्री को बढ़ावा देगी। इसके साथ ही राज्य परिवहन की बसों को भी सीएनजी से चलाने का फैसला लिया गया है। राज्य में सीएनजी का इंतजाम गेल इंडिया की जगदीशपुर-हल्दिया पाइपलाइन के जरिये होगा। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने पटना को दुनिया का पांचवां सबसे प्रदूषित शहर घोषित किया था। इसके बाद राज्य सरकार प्रदूषण कम करने के उपायों को लागू करने में जुट गई है। राज्य सरकार ने पटना के अलावा गया और मुजफ्फ रपुर में भी प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए अधिकारियों को हर मुमकिन कदम उठाने का निर्देश दिया है।

राज्य के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया, 'हम राज्य में प्रदूषण की समस्या से वाकिफ हैं और इससे निपटने में लगे हैं। इस बारे में एक उच्च स्तरीय बैठक हुई है, जिसमें कई कदमों पर चर्चा की गई। प्रदूषण के खिलाफ लड़ाई में आम जनता को भी आगे आना होगा।' 

राज्य सरकार ने पटना के सभी पेट्रोल पंपों पर प्रदूषण जांच केंद्र स्थापित करने का आदेश दिया है, वहीं पटना में 15 साल या इससे ज्यादा पुराने वाहनों के परिचालन पर अंकुश लगाया जाएगा। राज्य में पर्यावरण के अनुकूल वाहनों को बढ़ावा देने का भी निर्णय हुआ है। इसके तहत राज्य सरकार ने पटना में वाहनों को सीएनजी से चलाने की व्यवस्था करने को कहा है। इसमें भी सबसे पहले राज्य परिवहन निगमों की बसें  सीएनजी से चलाई जाएंगी।

कीवर्ड पटना, प्रदूषण, बिहार, सरकार, बैटरी, सीएनजी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक