प्लास्टिक उद्योग में निवेशकों की रुचि

बीएस संवाददाता | पटना May 14, 2018 10:11 PM IST

बिहार में प्लास्टिक और रबर क्षेत्र के निवेशकों की रुचि बढ़ रही है। बीते वित्त वर्ष में राज्य में खाद्य प्रसंस्करण के बाद निवेश के सबसे ज्यादा प्रस्ताव इसी क्षेत्र से मिले हैं। इससे राज्य सरकार को हजारों की तादाद में रोजगार के मौके पैदा होने की उम्मीद है।  बिहार औद्योगिक भूमि प्राधिकार (बियाडा) की लघु और सूक्ष्म उद्योगों को बढ़ावा देने की नीति के तहत प्लास्टिक और रबर क्षेत्र के निवेशक राज्य में पैसा लगाने के लिए आ रहे हैं। बियाडा के प्रबंध निदेशक आर एस श्रीवास्तव के मुताबिक बीते वित्त वर्ष में प्राधिकार ने 81 सूक्ष्म एवं लघु इकाइयों को जमीन आवंटित की, जिससे राज्य में 720 करोड़ रुपये की पूंजी निवेश होगा। इसमें प्लास्टिक व रबर क्षेत्र की 24 इकाइयों को भूमि आवंटित की गई, जिससे 57 करोड़ रुपये के पूंजी निवेश की उम्मीद है। इससे राज्य में 1,000 लोगों को प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से रोजगार मिलेगा। वहीं, बियाडा ने खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र की 39 इकाइयों को जमीन मुहैया कराई, जिससे राज्य सरकार को 142 करोड़ रुपये मिलने की उम्मीद है। 
 
सूत्रों के मुताबिक प्लास्टिक और रबर क्षेत्र बिहार में तेजी से तरक्की करने वाले उद्योगों में से एक है,  इसलिए राज्य सरकार इसे काफी अहमियत दे रही है। विभाग के एक अधिकारी ने कहा, 'निवेश के हिसाब से प्लास्टिक और रबर उद्योग बिहार में तेजी से उभर रहे उद्योगों में से एक है। बिहार में आज भी मांग और आपूर्ति में बड़ा अंतर है, इसलिए हमें उम्मीद है कि इस उद्योग में आगे भी तेजी बरकरार रहेगी।' राज्य सरकार ने इस क्षेत्र को अपनी प्राथमिकता वाले उद्योगों की श्रेणी में शामिल भी किया है। इसके तहत निवेशकों को राज्य जीएसटी के 80 फीसदी हिस्से की प्रतिपूर्ति भी मिलेगी। वहीं, ब्याज अनुदान भी दूसरे निवेशकों से ज्यादा मिलेगा। जमीन का इस्तेमाल बदलने और स्टांप ड्यूटी की भी 100 फीसदी प्रतिपूर्ति राज्य सरकार करेगी।  इंडियन प्लास्टिक फेडरेशन के आंकड़ों की मानें तो बिहार में अब भी राष्ट्रीय औसत से काफी कम प्लास्टिक का इस्तेमाल होता है। बीते 5 साल में बिहार में प्लास्टिक उद्योग करीब 15 फीसदी की औसत रफ्तार से बढ़ा है, जिससे यहां विकास की जबरदस्त संभावना है।
कीवर्ड bihar, plastic, rubber,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक