महाराष्ट्र में चीन और जापान करेंगे निवेश

सुशील मिश्र | मुंबई May 22, 2018 09:41 PM IST

निवेशकों को आकर्षित करने की महाराष्ट्र सरकार की नीति रंग लाने लगी है। जापान और चीन के कारोबारियों ने महाराष्ट्र में निवेश बढ़ाने की बात कही है। इसके तहत चीन राज्य के पुणे और औरंगाबाद में रेफ्रिजरेटर और कम्प्रेशर का उत्पादन शुरू करेगा, वहीं जापान की एनईसी कंपनी सूचना-प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में निवेश करने के लिए मुंबई में अपनी पहली प्रयोगशाला शुरू करेगी।  चीन और जापान के कारोबारियों के शिष्टमंडल ने सोमवार को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और उद्योग मंत्री सुभाष देसाई से मुलाकात करके निवेश संबंधी समझौते किए। सरहद पर तनातनी के बावजूद भारत में चीन का निवेश लगातार बढ़ रहा है। देसाई ने बताया कि चीनी कंपनियों ने भारत में निवेश के जरियेउत्पादन करने की इच्छा जताई है। देसाई ने कहा, 'रेफ्रिजरेटर और कम्प्रेशर उत्पादन की तैयारी हो रही है। पुणे और औरंगाबाद में चीन की कंपनी उत्पादन संयंत्र स्थापित करेगी। इससे करीब 1,200 लोगों को रोजगार प्राप्त होगा।
 
जापानी कंपनी एनईसी महाराष्ट्र में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में निवेश करने के लिए मुंबई में अपनी पहली प्रयोगशाला शुरू करेगी। इस प्रयोगशाला में कोर तकनीकी पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। वहीं शहर की परिवहन प्रणाली तथा माल ढुलाई की चुनौतियों के उपाय तलाश किए जाएंगे। फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र निवेशकों और उद्योग जगत की पहली पसंद है क्योंकि राज्य में निवेशकों को बेहतर सुविधाएं मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि 2025 तक भारत की अर्थव्यवस्था 5 लाख करोड़ डॉलर और महाराष्ट्र की अर्थव्यवस्था एक लाख करोड़ डॉलर पहुंच जाएगी।
कीवर्ड mumbai, china, japan, invest,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक