किसान संगठनों का ग्राम बंद आंदोलन आज से

संदीप कुमार | भोपाल May 31, 2018 09:59 PM IST

किसान संगठनों के आह्वïान पर शुक्रवार से 10 दिवसीय ग्राम बंद आंदोलन शुरू हो रहा है। इस दौरान कोई किसान अपनी उपज बेचने गांव से शहर नहीं जाएगा। राष्टï्रीय किसान-मजदूर महासंघ के नेतृत्व में आयोजित इस आंदोलन में देश के कई छोटे-बड़े किसान संगठन हिस्सा ले रहे हैं। आंदोलन की शुरुआत से पहले ही राजधानी भोपाल और व्यावसायिक शहर इंदौर में दूध, फल और सब्जियों की उपलब्धता को लेकर अनिश्चितता का माहौल बन गया। किसी भी प्रकार की किल्लत को दूर करने के लिए प्रदेश सरकार ने दूध को आवश्यक सेवा संरक्षण अधिनियम (एस्मा) के दायरे में ले लिया है। राष्टï्रीय किसान मजदूर महासंघ के संयोजक शिव कुमार शर्मा उर्फ कक्काजी ने कहा कि सरकार किसान आंदोलन को येनकेन प्रकारेण कुचलने का प्रयास कर रही है। किसानों की समस्याओं को हल करने पर उसका ध्यान नहीं है। 

 
भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश महामंत्री अनिल कुमार यादव ने बिज़नेस स्टैंडर्ड से कहा, 'हम शांतिपूर्ण आंदोलन करना चाहते हैं लेकिन सरकार ने माहौल ऐसा बना दिया है मानो कोई युद्घ होने जा रहा हो। मंदसौर, नीमच, देवास और उज्जैन आदि जिलों में किसानों से बॉन्ड भरवाए गए हैं कि वे हिंसा नहीं करेंगे। जब किसान गांव से बाहर ही नहीं निकलने को कह रहे हैं तो हिंसा की बात कहां से आई?' गौरतलब है कि आगामी 6 जून को मंदसौर में विपक्ष किसानों को लेकर एक बड़ा प्रदर्शन करने जा रहा है। 
कीवर्ड madhya pradesh, bhopal, farmer, strike,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक