विधायकों से ज्यादा धन ग्राम प्रधान को

बीएस संवाददाता | वाराणसी Jun 10, 2018 09:35 PM IST

प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए शुरू हुई ग्राम स्वराज योजना सरकार का एक अहम् कदम है। इस योजना के अंतर्गत अब ग्रामीणों को सरकार की योजनाओ के लिए दर दर भटकना नहीं पड़ेगा बल्कि सरकार की योजनाएं और सरकार खुद ग्रामीणों के दरवाजे पर पहुंचेगी और उनकी समस्याओं का समाधान करेगी। अपनी धार्मिक यात्रा सहित लोगों की समस्याओं से रूबरू होने दो दिवसीय यात्रा पर वाराणसी आए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने दौरे के दूसरे दिन ग्राम प्रधानों से मुलाकात करते हुए उन्हें ग्राम स्वराज योजना की जानकारी दी और उन्होंने बताया कि योजना के द्वितीय चरण में साढ़े 13 हजार गांव का चयन किया गया है, जिसमें गांव के विकास के लिए एक विधायक केवित्तीय सहयता से अधिक धन ग्राम प्रधान को दिया जाएगा।
 
वाराणसी के पंडित दीनदयाल हस्त कला संकुल में ग्राम प्रधानों केसम्मुख ग्राम स्वराज योजना पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इस योजना के लागू होने पर एक गांव के प्रधान को उसके क्षेत्र में विकास के एक वित्तीय वर्ष में विधायक के क्षेत्र से अधिक पैसे मिलेंगे ताकि वह अपने गांव का सर्वांगीण विकास कर सके। उन्होंने बताया कि यदि किसी गांव की आबादी 20,000 से ऊपर है तो ग्राम प्रधान को 2 करोड़ रुपये वित्त आयोग से मिलेंगे जबकि एक विधायक को 1 करोड़ 40 लाख रुपये ही मिलते हैं। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों को इस चीज का अंतर विकास के लिए नहीं करना चाहिए कि इसने हमें वोट दिया है और इसने नहीं दिया है। 
कीवर्ड varanasi, gram pradhan, MLA,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक