विशेष सुविधा वाला बस टर्मिनल शुरू

बीएस संवाददाता | लखनऊ Jun 12, 2018 09:43 PM IST

उत्तर प्रदेश में हवाईअड्डों  जैसी सुविधाओं से लैस प्रदेश के पहले बस टर्मिनल का मंगलवार को उद्घाटन हो गया। यह अत्याधुनिक बस टर्मिनल निजी सार्वजनिक सहभागिता (पीपीपी) के आधार पर बनाया गया है। इस हाईटेक बस टर्मिनल के निर्माण पर 235 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। प्रदेश सरकार ने 21 और शहरों के बस टर्मिनल पीपीपी मॉडल के तहत विकसित करने की घोषणा की है। राज्य सरकार ने राजधानी लखनऊ के आलमबाग अंतरराज्यीय बस टर्मिनल (आईएसबीटी) को नया स्वरूप देकर इसकी शुरुआत की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को नवनिर्मित अत्याधुनिक आलमबाग बस टर्मिनल का लोकार्पण किया। इस मौके पर उन्होंने हरी झंडी दिखाकर स्वामी नारायण मंदिर छपिया, गोंडा से अयोध्या होते हुए लखनऊ तक चलने वाली दो बसों तथा परिवहन विभाग के 40 नये प्रवर्तन वाहनों की भी शुरुआत की।  
 
निजी क्षेत्र की मदद से बने इस टर्मिनल में एयरपोर्ट की तर्ज पर आधुनिक सुविधाएं होंगी। इनमें सामान की जांच, स्कैनर, वेटिंग हॉल, प्रसाधन, शीतल पेयजल, फूडकोर्ट, बैंक, पोस्ट ऑफिस एवं एटीएम, लिफ्ट, अंडरपास, एलईडी डिस्प्ले बोर्ड आदि सुविधाएं मौजूद होंगी। टर्मिनल पर 50 बसों की भूमिगत पार्किंग और 50 बसों के लिए प्लेटफॉर्म की व्यवस्था है। टर्मिनल से लगभग 750 बसों का संचालन शुरू होगा।  इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास के लिए परिवहन की बेहतर सुविधा अत्यंत आवश्यक है। आवागमन की सुविधा जितनी अच्छी होगी, विकास उतनी ही तेज गति से होगा। योगी ने कहा कि पीपीपी मॉडल पर परिवहन निगम 21 नए बस स्टेशनों का विकास करेगा। ये बस स्टेशन गाजियाबाद जिले के गाजियाबाद व कौशांबी, कानपुर सेंट्रल के झकरकटी, वाराणसी कैं ट , इलाहाबाद के सिविल लाइंस व जीरो रोड डिपो, लखनऊ के चारबाग व विभूति खंड (गोमती नगर), बरेली (सेटेलाइट), मेरठ के सोहराब गेट व भैंसाली, आगरा के ट्रांसपोर्ट नगर, ईदगाह व आगरा फोर्ट, अलीगढ़ के रसूलाबाद, मथुरा, बुलंदशहर, रायबरेली, फैजाबाद, गोरखपुर व गढ़मुक्तेश्वर में विकसित किए जाएंगे। 
कीवर्ड uttar pradesh, bus, transport,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक