नई कंपनियों ने बदला स्मार्ट टीवी बाजार का गणित

अर्णव दत्ता | नई दिल्ली May 06, 2018 10:23 PM IST

कम कीमत में ज्यादा फीचर की पेशकश

श्याओमी, थॉमसन और टीसीएल ने उतारे कई मॉडल
सैमसंग, एलजी और सोनी की बादशाहत को खतरा
मोबाइल फोन बाजार में भी हुआ था उलटफेर

भारत के स्मार्ट टीवी बाजार में एक मूक क्रांति हो रही है जिससे इस क्षेत्र की दिग्गज कंपनियों की बादशाहत छिन सकती है। इसका रुझान ठीक उसी तरह है जैसा कि कुछ साल पहले घरेलू मोबाइल फोन बाजार में हुआ था जब किफायती स्मार्टफोन ने बाजार के समीकरणों को हमेशा के लिए बदल दिया था। पिछले दो महीनों में श्याओमी, थॉमसन और टीसीएल जैसी अंतरराष्ट्रीय कंपनियों ने घरेलू स्मार्ट टीवी बाजार में सस्ते और बहुत सारी खूबियों वाले मॉडल उतारे हैं।

भारत में टीवी का बाजार करीब 500 अरब रुपये का है जिसमें स्मार्ट टीवी की भागीदारी आधी से भी कम है। अमूमन देश में 32 इंच के स्मार्ट टीवी की कीमत 30,000 रुपये से शुरू होती है। लेकिन श्याओमी, थॉमसन और टीसीएल ने करीब 14,000 रुपये में 32 इंच का स्मार्ट टीवी उतारा है। यह कीमत सैमसंग, एलजी और सोनी के इसी आकार के स्मार्ट टीवी की कीमतों के मुकाबले आधी से भी कम है।

विशेषज्ञों का कहना है कि इस क्षेत्र में उतरी नई कंपनियों ने बाजार के समीकरणों को बदल दिया है। सूत्रों का कहना है कि नई कंपनियों के आने से 40 इंच के स्मार्ट टीवी की कीमत 50,000 रुपये से गिरकर करीब 20,000 रुपये रह गई है। फाइनैंस विकल्पों के कारण अब आम लोगों के लिए 32 इंच और 40 इंच के स्मार्ट टीवी खरीदना आसान हो गया है।

जाहिर है कि देश के 3 सबसे बड़े टीवी निर्माताओं सैमसंग, एलजी और सोनी के सामने बड़ी चुनौती आ गई है। इससे निपटने के लिए वे 32 इंच और 40 इंच के मॉडलों की कीमत घटाने पर विचार कर रही हैं। नई कंपनियां वीडियो ऑन डिमांड के लिए हॉटस्टार, वूट, सोनी लाइव और हंगामा जैसे ऑपरेटरों के साथ मिलाकर अपने उत्पाद को और आकर्षक बना रही हैं। सूत्रों के मुताबिक सैमसंग, एलजी और सोनी ने भी अपने स्मार्ट टीवी मॉडलों के लिए कंटेट सौदे किए हैं लेकिन नई कंपनियां इस मामले में ज्यादा आक्रामक रुख अपना रही हैं।

स्मार्टफोन बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी श्याओमी के उपाध्यक्ष और भारतीय कामकाज के प्रबंध निदेशक मनु कुमार जैन ने कहा कि कंपनी अपनी कंटेंट लाइब्रेरी को मजबूत करने के लिए नेटफ्लिक्स और एमेजॉन प्राइम जैसे दिग्गजों के साथ बातचीत कर रही है। अभी उसकी लाइब्रेरी में 5 लाख घंटे की सामग्री मौजूद है। टीसीएल के महाप्रबंधक (विदेशी कारोबार) हैरी वू के मुताबिक भारत में पेश कंपनी का नया स्मार्ट टीवी ब्रांड आईफाल्कन बाकियों को काफी पीछे छोड़ सकता है।

वू ने कहा, 'श्याओमी के पास कंपनी की सॉफ्टवेयर विशेषज्ञता और ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म का समर्थन है। लेकिन हार्डवेयर के मामले में उस तरह का समर्थन नहीं है जैसा हमें है। हमें टेंसेंट से सॉफ्टवेयर विशेषज्ञता मिलती है जो चीन में सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर और कंटेंट कंपनी है।'

वीडियो ऑन डिमांड कंटेंट के लिए टीसीएल ने यूट्यूब, नेटफ्लिक्स, हॉटस्टार, एरोसनाव और रिलायंस जियो के साथ करार किया है। वू ने कहा कि गूगल के साथ करार से उपभोक्ताओं को वॉइस सर्च करने में मदद मिलेगी जबकि जियो से मॉडलों पर कैशबेक ऑफर में फायदा होगा। टीसीएल भारत में टीवी बनाने के लिए एक स्थानीय साझेदार की तलाश में है ताकि कीमतों में और कमी की जा सके। 

थॉमसन ब्रांड का स्वामित्व रखने वाली कंपनी टैक्रीकलर में बिक्री, विपणन और ट्रेडमार्क लाइसेंसिंग देखने वाले सेबेस्टियन क्रॉमबेज ने कहा कि उनकी कंपनी टीवी निर्माण और मार्केटिंग सपोर्ट के लिए स्थानीय साझेदार सुपर पेस्ट्रोनिक्स पर निर्भर है। उन्होंने कहा, 'हमारी कंपनी ने ही सबसे पहले 2001 में दुनिया का पहला स्मार्ट टीवी पेश किया था। लेकिन उस समय बाजार इस तकनीक के लिए तैयार नहीं था। अब चूंकि परिस्थितियां इसके लिए अनुकूल है इसलिए हम भारत में अपनी पूरी ताकत लगा रहे हैं।' भारत में स्मार्ट टीवी का बाजार लगातार पिछले दो साल में 40 फीसदी बढ़ा है।
कीवर्ड श्याओमी, थॉमसन, टीसीएल, सैमसंग, एलजी, सोनी, स्मार्ट टीवी, स्मार्टफोन, Smart Television, Xiaomi, Thomson, TCL, Smartphone,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक